कोर्स के बारे में

यह कोर्स क्यों है, जबकि आज लाखों अन्य कोर्स उपलब्ध हैं?

1. आज किसी भी कॉलेज से हाल ही में पास हुआ 21 वर्षीय व्यक्ति परिवार, समाज, राष्ट्र या मानवता के व्यापक परिप्रेक्ष्य में सकारात्मक योगदान देना  प्रायः इसलिए भूल जाता है क्योंकि प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में वह खुद को इस भ्रम में फंसा लेता है कि उत्तीर्ण होने के बाद, वह एक अच्छी तरह से व्यवस्थित जीवन अर्जित करना शुरू कर सकता है और समाज की भलाई में योगदान दे सकता है।


2. लेकिन उपलब्ध रिक्तियों के संबंध में स्नातकों की अत्यधिक उपलब्धता के कारण, योग्यता परीक्षा उत्तीर्ण करने और अच्छी कमाई वाली नौकरी के लिए चयनित होने के बीच की अवधि संघर्ष और हताशा के अंतहीन रैगिस्तान सी फैली हुई पाता है।


3. आज हम देख रहे हैं वो छात्र-आबादी जिसके माता-पिता संगठित नौकरियों की सेवाओं में हैं, वे मुख्य रूप से आईआईटी, एमबीबीएस, आईएएस, यूपीएससी या प्रबंधन स्ट्रीम जैसे करियर विकल्प अपना रहे हैं।


4. यहां युवाओं की प्रचुर जनसंख्या के साथ संगठित क्षेत्र में अधिशेष आय, प्रवेश में प्रतिस्पर्धा और 90% भारतीय परिवारों की क्षमता से परे निषेधात्मक शुल्क संरचना एक महंगी शिक्षा व्यवस्था की ओर समाज को धकेल रही है बिना सकारात्मक परिणाम के। 


5. जब छात्र इतने समय, प्रयास और निवेशित धन के बाद शैक्षिक जगत से बाहर आता है; बड़े पैमाने पर समाज के प्रति सहानुभूति को भूलने के लिए खुद को काफी विशेषाधिकार प्राप्त महसूस करता है। इस कारण हम अपने आसपास के समाज में हर संभव तरीके के व्यापक नैतिक पतन और भ्रष्टाचार को देख सकते हैं।


6. कर के पैसे से शिक्षा का बुनियादी ढांचा बनाने में अरबों के निवेश और निजी क्षेत्र के निवेश के साथ ही साथ माता-पिता द्वारा अपने बच्चों की फीस के तौर पर उपलब्ध कराये निवेश के बावजूद; समग्र रूप से हमारा देश मानव विकास सूचकांक (एचडीआई) के क्षेत्र में शताधिक अन्य देशों से भी नीचे ही है।


7. आज हमारे देश में दुनिया की सबसे बड़ी आबादी के साथ-साथ बेरोजगार स्नातकों की भीड़ है, जो एक नियमित नौकरी पाने के बाद; शादी करने और समाज की भलाई में योगदान देने की प्रतीक्षा कर रही है।


8. मानव विकास सूचकांक (एचडीआई) में बेहतर स्थिति हासिल करने के लिए इन आस्त्तियों का लाभ उठाने के लिए यह पाठ्यक्रम डिजाइन किया गया है।

हमारा लक्ष्य छात्र है: 

1. जो लोगों के बीच रह कर अनुसंधान कार्य करने के लिए  इच्छुक है।


2. जो गणित और स्मार्ट फोन के बुनियादी व्यावहारिक ज्ञान के साथ अंग्रेजी और हिंदी, पाठ और वीडियो को समझना जानता हो।


3. जो कोर्स के लिए नवी मुंबई तक यात्रा करने को इच्छुक है।


4. जो 30 दिनों की पाठ्यक्रम अवधि के लिए बोर्डिंग में रहने और कैंटीन द्वारा बनाए गए पूर्ण शाकाहारी भोजन को खाने के लिए तैयार है।


5. वह जो समाज की भलाई में योगदान देने की आकांक्षा रखता है।


6. जो पाठ्यक्रम में शामिल होने के तीन महीने के भीतर अपने माता-पिता को भुगतान करना चाहता है, वह पूंजी जो उन्होंने उसे कोर्स के दौरान दी है।


7. जो पाठ्यक्रम पूरा होने के बाद पहले वर्ष में 3 लाख सालाना से अधिक आय अर्जित करने के लिए सवैतनिक परिवीक्षा स्वीकारने को तैयार है।


8. देश के 90% परिवारों वाले बड़े समुह से संबंध रखता है। जिनके पूरे परिवार की वार्षिक आय 3 लाख रुपये से कम है। 


9. जो स्वयं के प्रयासों से अपनी सफलता को अर्जित करने के लिए, अपने माता-पिता पर वित्तीय बोझ बने बिना सीखते हुए काम करने की इच्छा रखता है।


10. आईआईटी, एमबीबीएस, आईएएस, यूपीएससी या प्रबंधन स्ट्रीम की महंगी प्रक्रिया जहां लंबे समय तक कठिन प्रयास करने के बावजूद 100% प्लेसमेंट की कोई गारंटी नहीं है में आगे बड़ने के लिए, जिसके पास  पर्याप्त संसाधन नहीं है।