किचनोपैथी संस्थान®

यदि आपके रिश्ते या आपकी मित्र मंडली में एक रोगी है, जिसके बचने की संभावना; पेशेवर योग्य डॉक्टरों के अनुसार शून्य है।

जहां आसन्न मृत्यु लगभग तय हो। 

जब आपके पास ईश्वर की प्रार्थना ही; एकमात्र व्यवहार्य विकल्प बचा हो। 

किन्तु रोगी के सगे रिश्तेदार, बच्चे, पति या पत्नी उसे निश्चित मौत के चंगुल से बचाना चाहते हों; तो बेहतर होगा; आप हमारे किसी भी किचनोपैथी® स्नातक से संपर्क करें।

वह 100 घंटे की अवधि के लिए आपके घर आएंगे। 

इस अवधि में वे अपने प्रयास करेंगे और अपनी जेब से धन का निवेश करेंगे। 

यदि उस अवधि के भीतर रोगी की मृत्यु हो जाती है तो आपको उन्हें एक पैसा देने की चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।

लेकिन अगर मरीज ठीक हो जाता है; उनके प्रयासों से; आपको उन्हें @ रुपये दस हजार प्रति घंटा का भुगतान करना होगा। रोगी के पुनर्जीवित होने की स्थिति तक; लेकिन अधिकतम 100 घंटे से ज्यादा नहीं।

यदि किसी कारण से परिवार के सदस्य; तुरंत देय राशि का भुगतान नहीं कर सकते हैं; तो वे एक वर्ष के भीतर; साप्ताहिक किश्तों में भुगतान कर सकते हैं। 

वह भी रोगी के जीवित रहने तक ही, भुगतान करना रहेगा

"दवा मुक्त सौ साल जीने हैतु"

लालच रहित विज्ञान किचनोपैथी® है।

लालच से घिरा विज्ञान एलोपैथी है।